Durga Chalisa lyrics - श्री दुर्गा चालीसा - Durga aarti lyrics

Shri Durga Chalisa - श्री दुर्गा चालीसा and Durga aarti lyrics

Durga Chalisa Lyrics
Durga Chalisa

Durga Aarti lyrics - Given below

Lyrics Credits:

Album: Shree Hanuman Chalisa - Hanuman Ashtak
Graphics By: Sanjeev Soni
Singer: Hariharan
Composer: Lalit Sen
Author: Traditional (Tulsi Das)
Music Label: T-Series


Doha:    

     Shree Guru Charan Saroj Raj
Nij Man Mukar Sudhari,
                    Barnau Raghuvar Bimal Jasu 
Jo Dayaku Phal Chari.
                    Budhi heen Tanu Janike 
Sumirow Pavan Kumar,
                    Bal Buddhi Vidya Dehu Mohi 
Harahu Kalesh Bikaar (II)

Chaupai:  

 Jai Hanuman Gyan Guna Sagar 
Jai Kapis Tihun Lok Ujagar 
                    Ramdoot Atulit Bal Dhamaa 
Anjani Putra Pavansut Naamaa.....





Durga Chalisa in Hindi
नित्य दुर्गा चालीसा पाठ से पाएं अपार सफलता...

यहां सभी पाठकों के लिए प्रस्तुत है पवित्र श्री दुर्गा चालीसा। नवरात्रि के दिनों के अलावा 
भी दुर्गा चालीसा का नित्य पाठ करने से मां दुर्गा अपने भक्त पर प्रसन्न होती हैं और वे
हर तरह के संकट दूर करती हैं।

दुर्गा चालीसा

नमो नमो दुर्गे सुख करनी।
नमो नमो दुर्गे दुःख हरनी॥

निरंकार है ज्योति तुम्हारी।
तिहूं लोक फैली उजियारी॥
शशि ललाट मुख महाविशाला।

नेत्र लाल भृकुटि विकराला॥

रूप मातु को अधिक सुहावे।
दरश करत जन अति सुख पावे॥

तुम संसार शक्ति लै कीना।
पालन हेतु अन्न धन दीना॥

अन्नपूर्णा हुई जग पाला।
तुम ही आदि सुन्दरी बाला॥
प्रलयकाल सब नाशन हारी।
तुम गौरी शिवशंकर प्यारी॥

शिव योगी तुम्हरे गुण गावें।
ब्रह्मा विष्णु तुम्हें नित ध्यावें॥

रूप सरस्वती को तुम धारा।
दे सुबुद्धि ऋषि मुनिन उबारा॥

धरयो रूप नरसिंह को अम्बा।
परगट भई फाड़कर खम्बा॥
रक्षा करि प्रह्लाद बचायो।
हिरण्याक्ष को स्वर्ग पठायो॥

लक्ष्मी रूप धरो जग माहीं।
श्री नारायण अंग समाहीं॥

क्षीरसिन्धु में करत विलासा।
दयासिन्धु दीजै मन आसा॥

हिंगलाज में तुम्हीं भवानी।
महिमा अमित न जात बखानी॥
मातंगी अरु धूमावति माता।
भुवनेश्वरी बगला सुख दाता॥

श्री भैरव तारा जग तारिणी।
छिन्न भाल भव दुःख निवारिणी॥

केहरि वाहन सोह भवानी।
लांगुर वीर चलत अगवानी॥

कर में खप्पर खड्ग विराजै।
जाको देख काल डर भाजै॥
सोहै अस्त्र और त्रिशूला।
जाते उठत शत्रु हिय शूला॥

नगरकोट में तुम्हीं विराजत।
तिहुंलोक में डंका बाजत॥

शुंभ निशुंभ दानव तुम मारे।
रक्तबीज शंखन संहारे॥

महिषासुर नृप अति अभिमानी।
जेहि अघ भार मही अकुलानी॥
रूप कराल कालिका धारा।
सेन सहित तुम तिहि संहारा॥

अमरपुरी अरु बासव लोका।
तब महिमा सब रहें अशोका॥

ज्वाला में है ज्योति तुम्हारी।
तुम्हें सदा पूजें नर-नारी॥
प्रेम भक्ति से जो यश गावें।
दुःख दारिद्र निकट नहिं आवें॥

ध्यावे तुम्हें जो नर मन लाई।
जन्म-मरण ताकौ छुटि जाई॥

जोगी सुर मुनि कहत पुकारी।
योग न हो बिन शक्ति तुम्हारी॥

शंकर आचारज तप कीनो।
काम अरु क्रोध जीति सब लीनो॥
निशिदिन ध्यान धरो शंकर को।
काहु काल नहिं सुमिरो तुमको॥

शक्ति रूप का मरम न पायो।
शक्ति गई तब मन पछितायो॥

शरणागत हुई कीर्ति बखानी।
जय जय जय जगदम्ब भवानी॥

दई शक्ति नहिं कीन विलम्बा॥
मोको मातु कष्ट अति घेरो।

तुम बिन कौन हरै दुःख मेरो॥

आशा तृष्णा निपट सतावें।
रिपू मुरख मौही डरपावे॥

शत्रु नाश कीजै महारानी।
सुमिरौं इकचित तुम्हें भवानी॥

करो कृपा हे मातु दयाला।
ऋद्धि-सिद्धि दै करहु निहाला।
जब लगि जिऊं दया फल पाऊं ।
तुम्हरो यश मैं सदा सुनाऊं ॥

दुर्गा चालीसा जो कोई गावै।
सब सुख भोग परमपद पावै॥

देवीदास शरण निज जानी।
करहु कृपा जगदम्ब भवानी॥

॥ इति श्री दुर्गा चालीसा सम्पूर्ण ॥




durga aarti lyrics
Durga Aarti lyrics 

दुर्गा आरती- Durga aarti lyrics


जय अम्बे गौरी मैया जय मंगल मूर्ति ।
तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिव री ॥टेक॥

मांग सिंदूर बिराजत टीको मृगमद को ।
उज्ज्वल से दोउ नैना चंद्रबदन नीको ॥जय॥

कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजै।
रक्तपुष्प गल माला कंठन पर साजै ॥जय॥


केहरि वाहन राजत खड्ग खप्परधारी ।
सुर-नर मुनिजन सेवत तिनके दुःखहारी ॥जय॥

कानन कुण्डल शोभित नासाग्रे मोती ।
कोटिक चंद्र दिवाकर राजत समज्योति ॥जय॥
शुम्भ निशुम्भ बिडारे महिषासुर घाती ।
धूम्र विलोचन नैना निशिदिन मदमाती ॥जय॥

चौंसठ योगिनि मंगल गावैं नृत्य करत भैरू।
बाजत ताल मृदंगा अरू बाजत डमरू ॥जय॥

भुजा चार अति शोभित खड्ग खप्परधारी।
मनवांछित फल पावत सेवत नर नारी ॥जय॥

कंचन थाल विराजत अगर कपूर बाती ।
श्री मालकेतु में राजत कोटि रतन ज्योति ॥जय॥
श्री अम्बेजी की आरती जो कोई नर गावै ।
कहत शिवानंद स्वामी सुख-सम्पत्ति पावै ॥जय॥



Durga aarti lyrics in English


Jai Ambe Gauri Maiya Jai ​​Mangal Murthy.

Nishidin Dhyavat Hari Brahma Shiva Ri Attach


Demand sindoor birajat tiko to mrigamad.

Ujjain se do naina chandrabadan niko ajay॥

Rajakambara Rajai is a common lover.

Blood garland garland


Kehari Vehicle Rajat Kharag Khapardhari.

Sur-male munijan sevat strake grief-stricken यjay


Kanan Kundal Shobha Nasagre Moti.

Kotik Chandra Diwakar Rajat Samjyoti Ajay॥

Shubh Nishumbh Bidare Mahishasura Ghati.

Smoke Villochan Naina Nishidin Madmati Ajay॥


Chausath Yogini Mangal Gaon Dance Karat Bhairu.

Bajat Tal Mridanga Aru Bajat Damru Ajay॥


The arm has four very beautiful Kharag Khapardhari.

Desired Fruit Recipient Sevata Male Female Ajay


Kanchan thal virajat agar kapoor baati.

Rajat Koti Ratan Jyoti in Sri Malaketu

Mr. Ambeji's Aarti which is a male song.

Kahaat Shivanand Swami Sukh-Sampati Pavai Ajay




If anyone has any questions contact us page.


Post a Comment

0 Comments